NDTV न्यूज़ एंकर रवीश कुमार का जीवन परिचय-Ravish Kumar Biography In Hindi

Ravish Kumar Biography In Hindi

रविश कुमार NDTV के एक प्रतिभाशाली एंकर है। जो अपने अलग स्टाइल ओर निडरता से एंकरिंग ओर ग्राउंड रिपोर्टिंग करते हैं। देश के बड़े जर्नलिस्ट में इनका नाम आता है। ये एंकर होने के साथ-साथ एक बहुत प्रतिभाशाली लेखक,ब्लॉगर,एडिटर ओर प्रोड्यूसर भी हैं।

जो राजनीतिक और सामाजिक समस्याओं पर लिखते है। और उन्हें दुनिया से रूबरू करवाते हैं। ये NDTV  चैनल पर Prime Time चर्चित शो को होस्ट करते है। जो हर रात 9pm बजे प्रशारित होता है। लेकिन रविश को असली पॉपुलेरिटी बहु चर्चित शो रविश की रिपोर्ट से मिली।

ये “हम लोग” शो के भी एंकर है जिसमे पब्लिक से रूबरू बातें की जाती हैं और उनके ओपीनियन लिए जाते है राजनैतिक ओर समाजिक समस्याओं पर। इन्होंने 15 साल का अनुभव है, NDTV साथ काम करने का। ये NDTV के एक मुख्य एडिटर हैं।

शिक्षा और जन्म स्थान – Education Or Birthplace

इनका जन्म 5 दिसंबर 1974 को बिहार के मोतिहारी में हूआ। इन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई पटना के लोयोला हाई स्कूल से की। इसके बाद ये अपनी कॉलेज पढ़ाई पूरी करने के लिए दिल्ली चले आये । इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के देशबंधु कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन ओर पोस्ट-ग्रेजुएशन पूरी की।

रविश मीडिया के बारे में क्या सोचते हैं।

रविश मीडिया के बारे में बात करते हुए कहते हैं। कि आज-कल का मीडिया बिकाऊ बन गया। वो अंधे हो चुके है, सिर्फ दुनिया की नज़र में आने के लिए। इनकी नज़रो में जो रिपोर्टर बातों को मिर्च-मसाला लगा कर पेश करते है। वे समाज ओर लोकतंत्र को नष्ट कर रहे है। ओर वे इस मानसिकता के साथ कुछ अच्छा नही कर सकते।

निजी जीवन – Personal Life

रवीश कुमार बिहार के एक साधारण परिवार से है। जब ये पढ़ाई करने के लिए दिल्ली आए तो इन्हें यहाँ के लोगो के साथ घुलने-मिलने में बहुत परेशानियां आई। क्योकि इन्हें इंग्लिश बोलने में बहुत दिक्कत आती थी। और एक साधारण परिवार से होने के कारण इन्हें हाई सोसाइटी के साथ तालमेल बनाने में बहुत टाइम लगा।

जब इन्होंने देशबंधु कॉलेज में एडमिशन लिया। तो ये अपने गुरु अनील सेठी ओर राणा बहाल से मिले। जिससे इनकी जिंदगी में बहुत बदलाव आया। ये कहते है की उन्हें इंग्लिश बोलना , टाई बांदना,लड़कियों से बात करना ओर टेबल पर बैठ कर खाना कैसे कहते हैं ये सब इनके गुरु ने सिखाया। वे अपने इन दोनों गुरुवों को अपना आदर्श मानते है।

जब वे दिल्ली विश्वविद्यालय से एम फिल की पढ़ाई कर रहे थे। तो उनकी मुलाकात नयना दासगुप्ता से हुई। जो इंद्रप्रस्थ कॉलेज से पढ़ाई कर रही थी। रवीश ने जब अपने घर वालों से नयना के बारे में बात की तो वे उसके विरुद्ध हो गए। क्योकि वे एक अलग जाति से थी। लेकिन रवीश ने जाति धर्म की सब दीवारों को तोड़ते हुए नयना से शादी की।

रविश डॉ भीमराव अंबेडकर के विचार को बहुत मानते हैं। वे आरएसएस जैसे संगठन के कहीं न कहीं खिलाफ रहते है। ये आप इनके tv show  प्राइम टाइम में भी देख सकते है।

Read Also – चित्रा त्रिपाठी जीवन परिचय और कुछ रोचक बातें Chitra Tripathi Biography in Hindi

रवीश कुमार की किताबें – Ravish Kumar Books

रवीश कुमार को एक अच्छे लेखक भी हैं। ये अपने लेखन में प्यार, सामाजिक समस्याओं पर अक्सर विचार प्रकट करते हैं। इनकी कुछ प्रमुख रचनाएँ जैसे

  1. इश्क़ में शहर हो जाना
  2. देखते रहिये
  3. रवीशपंती

पुरस्कार – Awards

इन्हें अपनी लेखन , एंकरिंग, पत्रिकाओं पर अच्छा काम करने के लिए बहुत सारे पुरस्कार सम्मान के रूप में मिले हैं जैसे

  1. पत्रिका रंग में बेहतरीन लेखन के कारण इन्हें शंकर विद्यार्थी पुरस्कार सम्मान के रूप में राष्ट्रपति के हाथों मिला 2010 और 2014 में
  2. साल का बेहतरीन पत्रकार  के लिए journalist of the year 2013 में मिला।
  3. Kuldeep nayar journalism award
  4. पत्रिका रंग के लिए रामनाथ गोयंका पुरस्कार

Ravish Kumar On Social Media

Ravish Kumar on Facebook Profilehttps://www.facebook.com/RavishKaPage/
Ravish Kumar on Twitter Profile https://twitter.com/ravishndtv
Ravish Kumar Website http://naisadak.org/

रवीश कुमार की कहानी, इन्ही की जुबानी।

Leave a Comment